User:Dr.ramkumarsingh

From Wikipedia, the free encyclopedia
Jump to navigation Jump to search

डॉ. रामकुमार सिंह शोध/समीक्षा/आलेख/कथा/कविता – लेखन (01-06-1979) ————–अपनी नवाचारी परियोजना के लिए एनसीईआरटी नई दिल्ली का वर्ष 2012 का राष्ट्रीय पुरस्कार केन्द्रीय विद्यालय संगठन बैंगलौर संभाग अंतर्गत के.वि. दोणिमलै के लिए प्राप्त कर चुके डाॅ. रामकुमार सिंह युवा शिक्षाविद् के रूप में ख्यात हैं। हिन्दी महाकाव्यों में सामाजिक चेतना के अनुसंधान पर जीवाजी विश्वविद्यालय से वर्ष 2009 में डाॅक्टरेट उपाधि प्राप्त डाॅ. रामकुमार सिंह यूजीसी-नेट के साथ ही हिन्दी, राजनीति विज्ञान, संगीत, गणित, शिक्षा, व संगणक विज्ञान में उपाधिधारक हैं। ललित कला, एवं सम-सामयिक विषयों पर विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में स्तम्भ-लेखक रहे डाॅ. सिंह विभिन्न मंचों से कवि-सम्मेलनों में शामिल, मंच-संचालक के रूप में ख्याति, बाल-मनोविज्ञान के कुशल अध्येता, दक्षिण भारतीय भाषाओं के उत्थान के लिए कार्यरत बहुभाषी कक्षा में भाषा-अध्यापन के विशेषज्ञ रहे हैं। थियेटर/नाटक लेखन में आपकी दक्षता है। । हिन्दी नाटक – ‘बेटी, सड़क और काले हाथ’ तथा ‘ब्रह्मराक्षस’ केन्द्रीय विद्यालय संगठन की राष्ट्रीय सामाजिक प्रदर्शनी में राष्ट्रीय स्तर पर ग्वालियर एवं चंडीगढ़ में प्रदर्शित हो चुके हैं। संगीत में गहरी रुचि, अनेक मंचों से गायन, वादन आदि में सम्मिलित। आप 7 फरवरी, 2009 से स्नातकोत्तर शिक्षक-हिन्दी के पद पर सेवारत हैं(प्रस्तुति सर्जना टीम) शैक्षणिक योग्यता : नेट-यूजीसी, पी-एच.डी., एम.ए. (हिन्दी, राजनीति विज्ञान) बी.एस.सी.(गणित), बी.एड. (जीवाजी विश्वविद्यालय ग्वालियर) संगीत प्रभाकर (गायन) सीनियर डिप्लोमा (तबला-वादन), जूनियर डिप्लोमा (बांसुरी-वादन) (प्रयाग संगीति समिति, इलाहाबाद), डीसीए —————————- वर्ष 1998 से पत्रकारिता में प्रवेश। दैनिक आचरण ग्वालियर, दैनिक मध्यराज्य ग्वालियर, दैनिक नई दुनिया आदि समाचार-पत्रों के लिए कार्य किया। कुछ वर्षों पश्चात स्वतंत्र स्तम्भ-लेखन। जनसम्पर्क विभाग मध्यप्रदेश के लिए भी लेखन किया। जिला पंचायत मुरैना के मीडिया प्रभारी के रूप में भी कार्य किया। पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्रालय भारत सरकार के पत्र ‘ग्रामीण-भारत’ के मुरैना जिला अंक का कार्यकारी संपादन किया। मध्यप्रदेश शासन द्वारा प्रवर्तित निशक्तजन पर केन्द्रित ‘समर्थता- अभियान’ की पुस्तक का मुख्य संपादन। वर्ष 2001 से वर्ष 2009 तक मध्यप्रदेश में शिक्षक के रूप में कार्य। ——————– सम्प्रति : स्नातकोत्तर शिक्षक (पीजीटी) एवं विभागाध्यक्ष-हिन्दी केन्द्रीय विद्यालय दोणिमलै, दोणिमलै टाउनशिप-583118 जिला-बैल्लारी, कर्नाटक ————————- सम्पर्क : ई-मेल. singh.rk2009@rediffmail.com singh.ramkumar@indiatimes.com मो. – 09343940449 /09301369969/09827098880 स्थायी पता : एम.आय.जी.-482, न्यू हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी, मुरैना- 476001 (मध्यप्रदेश) ——————————— अंर्तजाल-पृष्ठ (बेबसाइट) : 1.’सर्जना’ (आलेख/शोध/समीक्षा/कविता/कथा/साहित्यिक-चिंतन उपलब्ध) ——————————— स्कॉरशिप /पुरस्कार : 1. नेशनल स्कॉरलशिप स्कीम (एमएचआरडी-भारत)- 1995 2. श्री उपेन्द्रमोहन श्रीवास्तव स्मृति पुरस्कार-1993,1995, विज्ञान एवं पर्यावरण संरक्षण सेंटर मध्यप्रदेश 3. कथादेश मासिक पत्रिका द्वारा अखिल भारतीय लघुकथा प्रतियोगिता पुरस्कार-2009 (संपादक श्री हरिमोहन द्वार दूरभाष से सूचित) 4. राजभाषा विभाग, नेशनल मिनरल डेवलपमेंट कार्पोरेशन ऑफ इण्डिया, दोणिमलै, कर्नाटक द्वारा राजभाषा प्रचार-प्रसार के क्रम में नगद पुरस्कार 2009 ———- शोधपत्रों का विवरण :

प्रकाशित : 1. ‘सीतायन महाकाव्य का वैचारिक आधार’/रिसर्च-लिंक/ ISSN 0973 -1628/इन्दौर/सम्पादक: डॉ. रमेश सोनी/ vol-v6/31/page no- 48-50

अप्रकाशित : 1.डॉ. सूर्यबाला की कहानियों में स्त्री-पात्रों की ‘परिपक्वता’ 2.’किसनई जीवन की कूटोक्तियों का भावनात्मक सौन्दर्य : सीमान्त चम्बल क्षेत्र का विशेष-सन्दर्भ (मध्यप्रदेश शासन की लोकोक्ति – संकलन प्रायोजना के तहत संकलन एवं विश्लेषण

सेमीनार-सहभागिता : 1. ‘हिन्दी पत्रकारिता के नये आयाम’ ( आयोजक: जनसम्पर्क विभाग, मध्यप्रदेश /2 फरवरी 2008 / संयोजक-मण्डल सदस्य 2.अखिल भारतीय राजभाषा तकनीकी सेमीनार एवं राजभाषा स्मारिका 2009 एनएमडीसी भारत सरकार/ उपस्थिति एवं स्मारिका में आलेख प्रकाशित

सम्पादित कार्य (प्रकाशित) : 1. ‘समर्थता-अभियान : एक प्रयास’ /निशक्तजन की कहानियों पर केन्द्रित मध्यप्रदेश शासन द्वारा प्रकाशित- 2003/ रचनात्मक लिखित वृत्तचित्र का मुख्य संपादन 2. केन्द्रीय विद्यालय दोणिमलै कर्नाटक की वार्षिक पत्रिका, हिन्दी प्रभाग का संपादन/ वर्ष 2009 सम्पदित कार्य (अप्रकाशित) : 1. ‘डरती है दरियाबी’/ तेलुगु युवा कवि मो. इलियास की कविताओं की हिन्दी पुनर्सर्जना/ रेखांकन- प्रसिध्द युवा रेखाचित्रकार- अमित मनोज- हरियाणा बेबपृष्ठ ‘सर्जना’ पर उपलब्ध ————-

विगत 10 वर्षों में प्रमुख (प्रकाशित) अग्रलेख/पुस्तक-समीक्षा

(शीर्षक/प्रकाशन/ वर्तमान सम्पादक/ अन्य विवरण/प्रकाशन दिनांक)

1. खामियां किसमें हैं – संविधान में या नेतृत्व में दैनिक आचरण/डॉ. राम विद्रोही/आर्टीकल/27 फरवरी 2000/ग्वालियर एवं सागर संस्करण, (मध्यप्रदेश)

2. नई शताब्दी की सबसे बड़ी चुनौती आंतकवाद दैनिक आचरण/डॉ. राम विद्रोही/आर्टीकल/20मई,2000/ग्वालियर एवं सागर संस्करण, (मध्यप्रदेश)

3. दुष्यंत : सामाजिक पीड़ा की प्रखर अनुभूति दैनिक आचरण दैनिक आचरण/डॉ. राम विद्रोही/आर्टीकल/1 सितम्बर, 2000/ग्वालियर एवं सागर संस्करण, (मध्यप्रदेश)

4. गांधी को प्रासंगिक नहीं रहने देंगे, हम दैनिक नवभारत/डॉ.सुरेश सम्राट/गांधी-जयंती पर विशेष (आर्टीकल)/2 अक्टूबर, 2000/ग्वालियर, जबलपुर

5. फुटपाथ पर किताबें बेचते निकले जिंदगी के तीस बसंत नई दुनिया/आलोक मेहता/राकेश पाठक/क्रिएटिव फीचर/20 फरवरी, 2005/ग्वालियर, इंदौर, भोपाल(मध्यप्रदेश) 6. मानवाधिकार : धरातलीय प्रभाव का प्रश्न दैनिक मध्यराज्य/रघुवीर सिंह/मानवाधिकार दिवस पर विशेष (आर्टीकल)/10 दिसम्बर, 2000/ग्वालियर संस्करण,

7. क्या वसुधैव कुटुम्बकम् नहीं है ग्लोबलाइजेशन दैनिक आचरण/डॉ. राम विद्रोही//वैचारिक आलेख/5 फरवरी,2001/ग्वालियर एवं सागर संस्करण, (मध्यप्रदेश)

8.अब चलो, घर बैठकर घर बार की बातें करें दैनिक आचरण/डॉ. राम विद्रोही/रचनात्मक फीचर/25 मार्च, 2002/ग्वालियर एवं सागर संस्करण, (मध्यप्रदेष)

9.तुलसी का मानवतावाद एवं अन्य आलेख (सम्पादित) दैनिक मध्यराज्य/रघुवीर सिंह/तुलसी जयंती पर संकलित पृष्ठ, /लेखक डॉ.शंकरसिंह तोमर व अन्य/4 अगस्त, 2003/ग्वालियर एवं सागर संस्करण, (मध्यप्रदेश)

10.प्रेरणादायी-विचारों का पुंज है ‘आपकी बात’ नई दुनिया (साहित्य का साप्ताहिक पन्ना)/आलोक मेहता/ राकेश पाठक//डॉ. चन्द्रपाल सिंह डी.लिट्, प्राप्त स्वर्णपदक की पुस्तक ‘आपकी बात’ की समीक्षा/ 8 सितम्बर, 2008/ग्वालियर, इंदौर, भोपाल(मध्यप्रदेश)

11. निराश्रितों के लिए बना सांझा चूल्हा पंचायिका -मध्यप्रदेश/मध्यप्रदेश जनसम्पर्क विभाग/आदिवासियों के बीच की कहानी/दिसम्बर- 2006/ भोपाल – मध्यप्रदेश

12.सर्जनात्मक अध्येता का समीक्ष्य से एकात्म होना ‘आजकल’/ मासिक/सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय भारत सरकार/डॉ. सविता मिश्र, डी.लिट्. की पुस्तक ‘रामदरश मिश्र : सृजन-संवाद’ की समीक्षा/मई 2009/दिल्ली —————————

प्रमुख प्रकाशित कवितायें

(शीर्षक/पत्रिका/सम्पादक/ प्रकाशक/अंक/अन्य विवरण

1. कविता हैलो हिन्दुस्तान(पाक्षिक) /प्रवीण शर्मा (इंदौर)/15 फरवरी 2009/ चार कविताएँ समकालीन राजनीतिक -चेतना से युक्त

2. हिन्दी गजल (पाखी/अपूर्व जोशी (नोएडा)/मार्च 2009/परिचय सहित हिन्दी गजल प्रकाशित ——————————–

अन्य गतिविधियों के प्रमाण-पत्रों का ब्यौरा : 1. अखिल भारतीय सिंधिया सांस्कृतिक प्रतियोगितायें 1998-99 : प्रथम स्थान 2. राज्य स्तरीय पर्यावरण मेला 1998-99 : प्रथम स्थान 3. विश्वविद्यालय स्तरीय युवा उत्सव 1998-99 : प्रथम स्थान 4. विश्वविद्यालय स्तरीय युवा उत्सव 197-98 : द्वितीय स्थान 5. जिला स्तरीय युवा उत्सव, खेल एवं युवक कल्याण विभाग -1999/प्रथम 5. जिला स्तरीय शालेय क्रीडा प्रतियोगिता 1994-95, विजेता 6. वन्य प्राणी संरक्षण सप्ताह, वन विभाग म.प्र. शासन -1993, द्वितीय स्थान 7. राष्ट्रीय सेवा योजना विशेष शिविर प्रमाण पत्र 2008 8. हिन्दी साहित्य सभा मुरैना द्वारा प्रदत्त प्रशंसा पत्र 2008 ————————–

प्रमुख प्रकाशानाधीन/अप्रकाशित – आलेख, पुस्तक-समीक्षा

(शीर्षक/अन्य विवरण)

1-’गैर-प्रांतीयता के खतरे और बाजार की ताकत को चीन्हती है त्रिलोचन की चम्पाविश्लेषणात्मक आलेख में त्रिलोचन की एक कविता पर सामयिक परिरिस्थितियों को दृष्टिगत रखते हुए चर्चा है।

2-’श्वेत-गृह में अश्वेत का प्रवेश और भारतीय दलित-आंदोलन का भविष्य विचारपरक आलेख में सन्दर्भों सहित भारतीय दलित आंदोलन पर समकालीन वैश्विक प्रभावों का आकलन है।

3- पुनर्पाठ – आधे-अधूरे : एक दिलचस्प रंगयुक्ति में अधूरेपन के उत्स ‘स्त्री और पुरुष-विमर्श आमने-सामने….एक परफेक्ट अधूरेपन के साथ’ मोहन-राकेश कृत ‘आधे-अधूरे’ का समकालीन संदर्भों व वैश्विक मंदी के परिप्रेक्ष्य में पुनर्पाठ

4-.’एक जागतिक ऋषि का शेषपाठ और पुनर्पाठ’ साहित्य अकादमी, मध्यप्रदेश संस्कृति परिषद द्वारा प्रकाशित ‘साक्षात्कार’ मासिक के नरेश मेहता विषेशांक की समीक्षा

5-.’मानवीय सम्बन्धों को सहेजती कविताएँ’ डॉ. सविता मिश्र के कविता-संग्रह ‘सदी के आरम्भ में’ की समीक्षा

6-.’प्रतिबंध के गर्भ में पली शब्द-सर्जना’ डॉ. कमलकिशोर गोयनका/अरुण कुमार भगत द्वारा सम्पादित पुस्तक ‘आपातकाल की प्रतिनिधि कविताएँ’ की समीक्षा ——————–

अभिरुचियों में - शोध, समीक्षा, आलेख, कविता/कथा लेखन, एवं बांसुरी-वादन, तबला-वादन एवं गिटार वादन, शास्त्रीय, अर्धशास्त्रीय एवं भाव-संगीत, गजल/भजन गायन व श्रवण